इन कारणों से नंबर एक हैं अखिलेश यादव, क्या दोबारा बनेंगे सीएम

2017 शुरू होते ही उत्तरप्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं। सत्ता के सिंहासन पर बैठने के लिए हर पार्टी बेताब है। इन सबके बीच मौजूदा मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अपने काम-काज और नीतियों के दम पर लोगों की पहली पसंद बने हुए हैं। आम तौर पर ऐसा होता है कि 5 साल के कार्यकाल के बाद लोग एंटी इन्कम्बेन्सी फैक्टर की बात करने लगते हैं। लेकिन उत्तरप्रदेश में जनता के दिलों पर सिर्फ अखिलेश यादव का नाम छाया हुआ है।

हाल के दिनों में कई ओपिनियन पोल आए हैं जिनमें अखिलेश यादव को नंबर वन बताया गया है। पिछले महीने एबीपी न्यूज-सीएसडीएस और लोकनीति के सर्वे में बताया गया था कि उन्हें राज्य की 24 फीसदी जनता चाहती है कि वो दोबारा सीएम बनें। शुक्रवार को इंडिया टीवी और सीएसडीएस के सर्वे में भी बताया गया है कि राज्य की 33 फीसदी जनता चाहती है कि वो दोबारा सीएम बनें। ओपिनियन पोल के साथ ही जनता के बीच जिस तरह से अखिलेश यादव की लोकप्रियता बढ़ती जा रही है। उससे विपक्ष का हैरान होना स्वाभाविक है। लिहाजा हमने ये समझने का प्रयास किया है कि आखिरकार क्या वजह है कि अखिलेश यादव लोगों की पहली पसंद हैं।

विकास के प्रति समर्पित

जानकारों का कहना है कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने जिस तरह से राज्य में विकास की गति को रफ्तार दी है उससे जनता काफी प्रभावित है। देश में सबसे जल्दी तैयार होने वाली लखनऊ मेट्रो, सबसे लंबा आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे, डायल-100 जैसी परियोजनाओं को तैयार कराने में अखिलेश यादव ने जिस सक्रियता का परिचय दिया है उससे राज्य की जनता काफी खुश हैं। इसके अलावा उन्होंने ऊर्जा, निवेश, स्वास्थ्य, सुरक्षा एवं शिक्षा के क्षेत्र में बेहतर नीतियां बनाकर प्रदेश में विकास की गति को आगे बढ़ाया है वह भी एक प्रमुख कारण है कि लोग उन्हें दोबारा सीएम को रूप में देखना चाहते हैं। ताकि राज्य की विकास की रफ्तार यूंही जारी रहे।

नौजवानों के कल्याण के प्रति संजीदा

चाहे पक्ष की बात की जाय या फिर विपक्ष की, मुख्यमंत्री अखिलेश यादव उत्तरप्रदेश की राजनीति में सबसे युवा चेहरा हैं। आज युवाओं के सामने सबसे बड़ी समस्या बेहतर शिक्षा और रोजगार की है। जिसे सीएम ने बखूबी समझा है। और इस दिशा में बेहतर नीति और नियत का परिचय दिया है। चाहे वह कौशल विकास के जरिए युवाओं को ट्रेनिंग दिलाकर उन्हें रोजगार दिलाने की बात हो या फिर 15 लाख लैपटॉप देकर तकनीकि शिक्षा से जोड़ने की बात हो हर कदम पर सीएम युवाओं के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हुए हैं। शायद यही वजह है कि मौजूदा युवा उनमें अपना अक्श देखता है।

किसान कल्याण के प्रति समर्पित

राज्य का कल्याण वहां के किसान और नौजवान की खुशहाली में निहित होती है। इस बात को उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव बखूबी समझते हैं। यही वजह है कि किसानों की कर्ज माफी, मुफ्त सिंचाई, आबपाशी शुल्क से मुक्ति और किसान सर्वहित बीमा योजना जैसी नीतियां राज्य में लागू है। पहले खाद बीज के लिए किसानों को लाठियां खानी पड़ती थीं। पैसा दलालों की जेब में जाता था लेकिन जबसे राज्य में डीबीटी (डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर स्कीम) लागू है किसानों की सीधे लाभ मिल रहा है, उन्हें उनका हक मिल रहा है। किसान मंडी, किसान बाजार जैसी योजनाओं का भी लाभ मिल रहा है। शायद यही वजह है कि सीएम किसानों के बीच लोकप्रिय हैं। और राज्य का किसान चाहता है कि वो वो दुबारा सीएम बनें।

जननेता की छवि

वर्तमान राजनीतिक परिवेश में जिस तरह से गाली-गलौच और असंसदीय भाषा का चलन बढ़ा है उससे अखिलेश यादव अलहदा हैं। पूरे कार्यकाल में उन्हें आपा खोते हुए नहीं देखा गया है। विपक्ष के तमाम आरोपों का उन्होंने जिस विनम्रता के साथ जवाब दिया है वह राजनीतिक दलों के लिए नजीर है। प्रदेश की जनता ने उन्हें पीपुल सीएम का दर्जा दिया है। चाहे वह जनता दरबार के जरिए लोगों की समस्याओं को तत्काल सुलझाने की बात हो या फिर सोशल मीडिया पर मिली खबरों पर एक्शन लेने की बात हो । अखिलेश यादव सबसे आगे रहे हैं। शायद यही वजह है कि वह जनता की पहली पसंद बन गए हैं।

राज्य में कमजोर विपक्ष

जानकारों के मुताबिक अखिलेश यादव के पहले नंबर पर आने की एक वजह यह भी है कि उत्तरप्रदेश की वर्तमान राजनीति में विपक्ष बेहद कमजोर हो गया है। 2014 के लोकसभा में तूफानी जीत हासिल करने वाली बीजेपी की हालत ये है कि उसे राज्य में सीएम कैंडिडेट खोजना पड़ रहा है। बीएसपी के अंदरूनी कलह ने उसे पहले ही हाशिए पर खड़ा कर दिया है। जबकि भ्रष्टाचार के तमाम आरोपों में घिरी कांग्रेस पार्टी रेस में सबसे पीछे खड़ी दिखाई दे रही है। शायद यही वजह है कि विकासवादी युवा सोच से लबरेज सीएम अखिलेश यादव जनता के दिल-ओ-दिमाग पर छाए हुए हैं।

 

23 thoughts on “इन कारणों से नंबर एक हैं अखिलेश यादव, क्या दोबारा बनेंगे सीएम

  • September 4, 2016 at 6:05 am
    Permalink

    Sp aane ke chanse kn hai yadi jis prakar jabrdasti se kannauj seet pr kabja kiya waise bhale up pr kabja kr le kyoki jo bhi labh unke logo ko mila rasulabad kanpur dehat me apdarahat rashi shirf usi ko mila jo unke khas the

    Reply
    • September 26, 2016 at 12:10 pm
      Permalink

      yes next cm mr akliesh yadav

      Reply
  • September 4, 2016 at 6:09 am
    Permalink

    Rasulabad me beriya aur kuldip ne apna jal bichha diya jo bhi kam hota unki marji se aur ab to kuldip blak pramuk hai kalooni ke liye 20,000 rs.

    Reply
  • September 4, 2016 at 6:12 am
    Permalink

    Aur up guna raj fail gya roj kahi jwahar bag to khi mujaffrnagar to kahi pratapgarh

    Reply
    • September 12, 2016 at 3:59 pm
      Permalink

      vimal yadav जी ने सही कहा है थोडा वर्दी पर और क्राईम पर ध्यान दे दिजिये फिर भला कौन है अखिलेश जैसा

      Reply
  • September 5, 2016 at 2:10 pm
    Permalink

    i
    am
    with
    akhilesh….
    ……………….jay samajwad……..

    Reply
  • September 6, 2016 at 7:49 am
    Permalink

    Yes I like Akhlesh bos. InshaAllah CM once again.

    Reply
  • September 8, 2016 at 11:34 am
    Permalink

    Akhilesh yadava sir u r the best C.M. I salute u for yr work

    Reply
  • September 11, 2016 at 8:41 am
    Permalink

    Vinamrata aur naitik shishtachar yukt karyashaili diayegi duwara jeet.

    Reply
  • September 12, 2016 at 12:11 pm
    Permalink

    Very nice wark in up cm

    Reply
  • September 12, 2016 at 3:57 pm
    Permalink

    उत्तर प्रदेश का शौभाग्य है कि अखिलेश जैसा नेता मिला है और मिलता रहेगा

    Reply
  • September 14, 2016 at 5:36 pm
    Permalink

    Main janta se yahi agrah karta hu ki akhilase ji hi up ka vikas kar sakte h aur sabse badi bat yah h ki paheli bar bina anubhav ke itna bikas kiya to ab to unke pass pura anubhav h islie bhai up ke log ek aur mauka to milana chahie ki nahi akhilase ji ko(Mai Wada karta hu ki jitana vikas akhilase ji kie h,koi cm itana vikas ajj tak nahi kiya islie kaho phir se akhilase phir se)

    Reply
  • September 17, 2016 at 7:17 pm
    Permalink

    prasasan ka aur gundagardi pe lagamlaga le gunndoko ander kar de baki cm jaisa koi nahi up me

    Reply
  • September 23, 2016 at 6:07 pm
    Permalink

    याचना नहीं, अब रण होगा ।
    संघर्ष बड़ा भीषड़ होगा ।
    ” भाजपा सरकार को उखाड़ फैंकने के लिए करो ललकार ,
    अबकी बार सपा सरकार ”
    मा..चौ..रमेश यादव (हीरो) प्रदेश प्रवक्ता .

    Reply
  • October 20, 2016 at 11:10 pm
    Permalink

    ak dab sahi kaha hai, aur likha bhi hai , yuva dilo ki dhadkan hai aur vishvas hai,
    kam to sabse jyada kiya hi hai , aur karege, hum sab milkar inhe hi dubara cm banayege

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *